Our Hon'bles

project images

Shri Yogi Adutya Nath

Hon'ble Chief Minister Of U.P.
project images

Dr. Dharam Singh Saini

Ayush Minister U.P.
project images

Shri Mukesh Meshram IAS

Secretary,Ayush U.P.

Lates News

  • Important Notice
  • राजकीय होम्योपैथिक मेडिकल कालेजों में शिक्षकों के रिक्त पदों को संविदा के आधार पर भरें जाने हेतु रिक्त पदों को क्रमिक रूप से एकजाई करके निकाले गये आरक्षण का विवरण।
  • राजकीय होम्योपैथिक मेडिकल कालेजों में शिक्षकों के रिक्त पदों को संविदा के आधार पर भरें जाने हेतु रिक्त पदों को क्रमिक रूप से एकजाई करके निकाले गये आरक्षण का विवरण।
  • "सर्व साधारण को सूचित किया जाता है कि राजकीय होम्योपैथिक मेडिकल कालेजों में शिक्षकों (प्रोफेसर/रीडर/प्रवक्ता) के रिक्त पदों को संविदा के आधार पर भरे जाने हेतु दिनाॅंक 27-04-2018 से 27-06-2018 तक साक्षात्कार, उत्तर प्रदेश होम्योपैथिक मेडिसिन बोर्ड, होम्योपैथी भवन, 2-नवीउल्लाह रोड, निकट सिटी स्टेशन, लखनऊ में लिया जायेगा। साक्षात्कार हेतु एडमिट कार्ड होम्योपैथिक निदेशालय की वेबसाईट से अभ्यर्थी अपने Login Id से डाऊनलोड कर लें। एडमिट कार्ड को अपलोड किये जाने के उपरान्त वांछित अभिलेखों के साथ साक्षात्कार में सम्मिलीत हो सकते हैं। साक्षात्कार हेतु विषयवार समय-सारणी निदेशालय की वेबसाईट पर उपलब्ध है। "
  • "राजकीय होम्योपैथिक मेडिकल कालेजों/होम्योपैथिक विभागान्तर्गत संविदा के आधार पर भर्ती हेतु प्रकाशित शिक्षकों/पैरा मेडिकल/नान पैरा मेडिकल के रिक्त पदों हेतु प्रकाशित विज्ञापन के क्रम में सभी अभ्यर्थियों को सूचित किया जाता है कि वे आवेदन पत्र में अंकित अपना E-mail Id देखतेे रहें। नियमानुसार भर्ती प्रक्रिया यथाशीघ्र प्रारम्भ किया जाना है। कमेटी द्वारा सम्यक् विचारोपरान्त समूह-ग हेतु लिखित परीक्षा आनलाइन/आफलाइन कराये जाने एवं समूह-ख के जिन पदों हेतु अधिकतम् संख्या में आवेदन प्राप्त हुये हैं, उनकी स्क्रीनिंग हेतु लिखित परीक्षा आनलाइन/आफलाइन कराये जाने तथा शिक्षकों तथा समूह-क के पदों पर चयन हेतु साक्षात्कार कराये जाने पर विचार किया गया है। यदि चयन प्रक्रिया में किसी प्रकार का संशोधन किया जाता है तो उसे निदेशालय की वेबसाईट पर अपलोड किया जायेगा। "

About Us

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा यूनानी चिकित्सा पद्वति के समूरिचत प्रसार एवं यूनानी चिकित्सा स्वास्थ्य की योजनाओं का जनता को प्रभावी ढंग से क्रियान्वयन किये जाने हेतु दिनांक-11.10.2008 को आयुर्वेद एवं युुनानी विभाग को पृथक कर यूनानी निदेशालय की स्थापना की गयी उक्त स्थापना का मुख्य उद्देश्य युनानी विधा का विकास एवं आम जनता को यूनानी चिकित्सा पद्वति का सीधा लाभ प्राप्त हो सके।